Chandraghanta-Mata-Pujabooking

Chandraghanta Mata – Navratri Third Day

 

Chandraghanta Mata is worshipped on the third day of Navratri. Her name means: ‘Chandra’ – the Moon, ‘Ghanta’ – hanging like bell. When Goddess Parvati adorned her forehead with the crescent Moon, she got this name. She is also known as Chandrakhanda. This form of Goddess gives courage and valor to the worshippers. She also takes away the problems related to the paranormal as well. Goddess Chandraghanta is the fierce form Parvati. But, her angry form can only be seen if she is provoked; otherwise, she is quite calm.

About Chandraghanta

Maa Chandraghanta rides on a tigress and has a golden skin tone. She has 10 arms. The 4 left arms carry Trishul (trident), Gada (mace), Sword, and Kamandal (stoup); the fifth arm remains in the Varada Mudra. Her 4 right arms carry lotus, arrow, bow (Dhanush), and Japa Mala (rosary); the fifth arm stays in Abhaya Mudra. In this form, she appears all set for a war.

Legend

When Lord Shiva told her finally that he will not marry anyone, she started suffering badly. He could not resist her pain and eventually they had quite an emotional reunion. After that, he visited King Himavana along with his Barat (the procession of family and friends along with the groom to be married). His Baaraat included all creatures including goblins, ghosts, gods, ascetics, Shivaganas, Aghoris, and many more.

The procession scared Pravati’s mother, Mena Devi and she got fainted in terror. In order to settle down all her family members, she took the form of Chandraghanta and arrived in front of Shiva. After that, in a very polite manner, she requested Shiva to look like a princely groom. Shiva agreed and came in a mesmerizing form, just like a prince. Also, he adorned himself with all those precious jewels that actually enchanted Parvati’s family.

Astrological Aspect

Chandraghanta Maa governs the planet Venus in astrology. Worshiping her can eliminate all the ill effects of Venus.

Mantras

ॐ देवी चन्द्रघण्टायै नमः॥

Prarthana Mantra:

पिण्डज प्रवरारूढा चण्डकोपास्त्रकैर्युता।
प्रसादं तनुते मह्यम् चन्द्रघण्टेति विश्रुता॥

Stuti:

या देवी सर्वभू‍तेषु माँ चन्द्रघण्टा रूपेण संस्थिता।
नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमो नमः॥

Dhyana Mantra:

वन्दे वाञ्छितलाभाय चन्द्रार्धकृतशेखराम्। सिंहारूढा चन्द्रघण्टा यशस्विनीम्॥
मणिपुर स्थिताम् तृतीय दुर्गा त्रिनेत्राम्। खङ्ग, गदा, त्रिशूल, चापशर, पद्म कमण्डलु माला वराभीतकराम्॥
पटाम्बर परिधानां मृदुहास्या नानालङ्कार भूषिताम्। मञ्जीर, हार, केयूर, किङ्किणि, रत्नकुण्डल मण्डिताम॥
प्रफुल्ल वन्दना बिबाधारा कान्त कपोलाम् तुगम् कुचाम्। कमनीयां लावण्यां क्षीणकटि नितम्बनीम्॥

Stotra:

आपदुध्दारिणी त्वंहि आद्या शक्तिः शुभपराम्। अणिमादि सिद्धिदात्री चन्द्रघण्टे प्रणमाम्यहम्॥
चन्द्रमुखी इष्ट दात्री इष्टम् मन्त्र स्वरूपिणीम्। धनदात्री, आनन्ददात्री चन्द्रघण्टे प्रणमाम्यहम्॥
नानारूपधारिणी इच्छामयी ऐश्वर्यदायिनीम्। सौभाग्यारोग्यदायिनी चन्द्रघण्टे प्रणमाम्यहम्॥

Kavacha Mantra:

रहस्यम् शृणु वक्ष्यामि शैवेशी कमलानने। श्री चन्द्रघण्टास्य कवचम् सर्वसिद्धिदायकम्॥
बिना न्यासम् बिना विनियोगम् बिना शापोध्दा बिना होमम्। स्नानम् शौचादि नास्ति श्रद्धामात्रेण सिद्धिदाम॥
कुशिष्याम् कुटिलाय वञ्चकाय निन्दकाय च। न दातव्यम् न दातव्यम् न दातव्यम् कदाचितम्॥

 

Navratri 2018 3rd Day, Maa Chandraghanta Puja Vidhi

आज यानी कि 12 अक्टूबर, दिन शुक्रवार को नवरात्र का तीसरा दिन है। इस दिन मां दुर्गा के चंद्रघंटा रूप की पूजा की जाती है। मां चंद्रघंटा के इस रूप को बहुत ही सौम्य कहा जाता है।

नवरात्र में नौ दिन तक मां दुर्गा के अलग-अलग रूपों की पूजा-अर्चना की जाती है। शास्त्रों में इन सभी रूपों का अलग-अलग महत्व बताया गया है। कहते हैं कि जो भक्त लगातार नौ दिन तक नवरात्र में मां के इन सभी रूपों की आराधना करता है, उसे विशेष फल की प्राप्ति होती है। आज यानी कि 12 अक्टूबर, दिन शुक्रवार को नवरात्र का तीसरा दिन है। इस दिन मां दुर्गा के चंद्रघंटा रूप की पूजा की जाती है। मां चंद्रघंटा के इस रूप को बहुत ही सौम्य कहा जाता है।

चंद्रघंटा देवी सिंह पर सवार हैं। मां दुर्गा का यही रूप सबसे ज्यादा लोकप्रिय है। मालूम हो कि चंद्रघंटा देवी के मस्तक पर घंटे के आकार का अर्द्धचंद्र है, इसलिए माता को चंद्रघंटा नाम से पुकारा जाता है। मां का यह अवतार सोने के समान कांतिवान है। मां की दस भुजाएं हैं और दसों भुजाओं में अस्त्र-शस्त्र हैं। चंद्रघंटा देवी अपने हाथों में कमल, धनुष-बाण, कमंडल, तलवार, त्रिशूल और गदा जैसे अस्त्र धारण करती हैं।

पूजा विधि

नान, वस्त्र, सौभाग्य सूत्र, चंदन, रोली, हल्दी, सिंदूर, दुर्वा, आभूषण, पुष्प-हार, सुगंधितद्रव्य, धूप-दीप, नैवेद्य, फल, पान, दक्षिणा, आरती, प्रदक्षिणा, मंत्रपुष्पांजलि आदि होता है।

पूजा मंत्र:

मां चंद्रघंटा देवी की पूजा के लिए इन मंत्रों का जप किया जाता है।

या देवी सर्वभू‍तेषु माँ चंद्रघंटा रूपेण संस्थिता।
नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमो नम:।।

पिण्डजप्रवरारूढा चण्डकोपास्त्रकैर्युता।
प्रसादं तनुते मह्यं चंद्रघण्टेति विश्रुता।।

महत्व:

कहते हैं कि मां चंद्रघंटा की आराधना करने से सभी पाप नष्ट हो जाते हैं। व्यक्ति की राह में आने वाली बाधाएं दूर हो जाती है। मान्यता है कि चंद्रदेवी का आशीर्वाद मिलने से व्यक्ति निडर हो जाता है। व्यक्ति के सभी दुखों का नाश हो जाता है। ऐसे व्यक्ति के परिवार में सुख-शांति और समृद्धि आती है।

With this, we hope that you will make the best of Navratri’s third day. May Chandraghanta Durga blesses you with all the goodness of life.

Happy Navratri!

One Thought on “Chandraghanta Mata – Navratri Third Day”

Leave a Reply